कुल पेज दृश्य

सोमवार, 30 नवंबर 2015

सपना यह संसार--(प्रवचन--17)


ज्ञान ध्यान के पार ठिकाना मिलैगा—(प्रवचन—सत्रहवां)

दिनांक; शुक्रवार, 27 जुलाई 1979;
श्री रजनीश आश्रम, पूना।
सूत्र—
टोप—टोप रस आनि मक्खी मधु लाइया
इक लै गया निकारि सबै दुख पाइया।।
मोको भा बैराग ओहि को निरखिकै
अरे हां, पलटू माया बुरी बलाय तजा मैं परिखिकै।।

फूलन सेज बिछाय महल के रंग में।
अतर फुलेल लगाय सुनदरी संग में।।
सूते छाती लाय परम आनंद है।
अरे हां, पलटू खबरि पूत को नाहिं काल को फंद है।।

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--28)

मेरा सिर मुंडवाना—(अध्‍याय—अट्ठाइसवां)

शो के पास रहते हृदय में हमेशा एक जुनून बना रहता है। एक मस्‍ती सी छाई रहती, यूं लगता कि बस नशे में हों। ओशो के वचन सुनते तो सीधे हृदय में उतरते जाते हैं। ओशो रोज हमें नई—नई चुनौतियां देते, हमारी संभावनाओं को ललकारते। हमें भी ओशो के साथ अज्ञात की इस यात्रा पर चलने का बड़ा ही आनंद आता।

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--27)

दद्दा जी की सेवा—(अध्‍याय—सत्‍ताईसवां)

शो ने प्रारंभ से एक बात अक्सर की है वह यह है कि उनके काम में जो भी सहभागी होता है, उस व्यक्ति का एक काम पक्का नहीं रहता है। हर थोड़े समय में बदलाव हो जाता। कभी भी कोई एक व्यक्ति किसी एक जगह पर अधिक समय तक काम नहीं करता था। इससे एक तो काम से पकड़ नहीं बनती, दूसरा व्यक्ति नये—नये काम सीखता है तो उसका विकास जारी रहता है। और फिर सबसे बड़ी बात मन पुराने को पकड़ता है, नया उसे रास नहीं आता। और यह भी कि जब नया व्यक्ति उसी काम को करता है तो वह अपनी नवीनता उस काम को देता है इस प्रकार से प्रत्येक कार्य नित—नया होता जाता है।

शनिवार, 28 नवंबर 2015

सपना यह संसार--(प्रवचन--16)


गहन से भी गहन प्रेम है सत्संग—(प्रवचन—सोलहवां)

दिनांक; गुरुवार, 26 जुलाई 1979;
श्री रजनीश आश्रम, पूना।
प्रश्‍नसार:
1—भगवान, बुद्ध कहते हैं: अप्प दीपो भव। अपने दीए स्वयं बनो। और आपकी देशना है: रसमय होओ, रासमय होओ। क्या दोनों उपदेश मात्र अभिव्यक्ति के भेद हैं?
2—भगवान, मैं वर्षों से संतों की वाणी के अध्ययन—मनन में लीन रहा हूं, पर अभी तक कहीं पहुंचा नहीं। और संत तो कहते हैं कि सत्संग क्षण में पहुंचा देता है!
3—भगवान, कोई इंसान इंसान को भला क्या देता है
आदमी सिर्फ बहाना है, बस खुदा देता है
वह जहन्नुम भी दे तो करूं शुक्र अदा
कोई अपना ही समझकर तो सजा देता है

शुक्रवार, 27 नवंबर 2015

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--26)

भारतीय संस्कारो पर चोट—(अध्‍याय—छब्‍बीसवां)

शो हम सभी पर जमी संस्कारों की धूल को हटाने का काम करते हैं। वे हमें हर तरह के बंधन से मुक्त करते हैं ताकि हम पूरी तरह से मुक्त होकर अपने जीवन को परम दशा में जी सकें। जहां पश्चिम के लोगों की समस्याएं अलग तरह की होती हैं वहीं पूरब के लोगों की अपनी तरह की।
हमारे देश में सालों से काम को, सेक्स को, स्त्री—पुरुष के रिश्ते को हजारों— हजार संस्कारों के तले इस तरह से कुचला गया है कि स्वस्थ रिश्ता बनना ही कठिन सा लगता है। ओशो ने हमारी काम प्रवृत्तियों पर करारी चोट की। हमारे दमित चित्त को हर तरफ से तोड़ा।

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--25)

हर कृत्‍य में सत्‍य के लिए तैयारी—(अध्‍याय—पच्‍चीसवां)

शो के रहने, खाने—पीने, चलने—उठने, बैठने हर बात में एक निराला अंदाज है। वह हर काम को इतनी सफाई व सुंदरता से करते कि बस देखते ही रह जाओ। उनका उठना—बैठना भी अपने आपमें एक नृत्य होता है, उत्सव होता है। यह उन दिनों की बात है जब ओशो सिर्फ सफेद रोब पहनते थे। हर दिन एक ही तरह का रोब। उसमें किसी भी प्रकार का परिवर्तन नहीं होता। ओशो के रोब बहुत विशेष प्रकार के कपडे के बनते थे।

तंत्र--सूत्र--(भाग--4) प्रवचन--61

तुम्‍हारा घर जल रहा है—(प्रवचन—इकसठवां)

सूत्र:
88—प्रत्‍येक वस्‍तु ज्ञान के द्वारा ही देखी जाती है। ज्ञान के द्वारा ही आत्‍मा
क्षेत्र में प्रकाशित होती है। उस एक को ज्ञाता और ज्ञेय की भांति देखो।
89—है प्रिये, इस क्षण में मन, ज्ञान, प्राण, रूप, सब को समाविष्‍ट होने दो।

बुधवार, 25 नवंबर 2015

तंत्र--सूत्र--(भाग--4) प्रवचन--60

डरने से मत डरो—(प्रवचन—साठवां)

प्रश्‍नसार:
      1—क्‍या स्‍वतंत्रता और समर्पण परस्‍पर विरोधी नहीं है?
      2—सूत्र का सिर्फ यह यह है पर इतना जोर क्‍यों है?
      3—क्‍या भगवता या परमात्‍मा संसार का ही हिस्‍सा है?
            और वह क्‍या है जो दोनों के पार जाता है?
      4—तंत्र के अनुसार भय से कैसे मुक्‍त हुआ जाए?
      5—ऐसी ध्‍वनियां सुनने लगा हूं जो बहती नदी या झरने
            की घ्‍वनियों जैसी है। यह ध्‍वनि क्‍या है?

मंगलवार, 24 नवंबर 2015

सपना यह संसार--(प्रवचन--15)


करामाति यह खेल अंत पछितायगा—(प्रवचन—पंद्रहवां)
दिनांक; बुधवार, 25 जुलाई 1979;
श्री रजनीश आश्रम, पूना
सूत्र:
करामाति यह खेल अंत पछितायगा
चटक—भटक दिन चारि, नरक में जायगा।।
भीर—भार से संत भागि के लुकत हैं।
अरे हां, पलटू सिद्धाई को देखि संतजन थुकत हैं।

क्या लै आया यार कहा लै जायगा।
संगी कोऊ नाहिं अंत पछितायगा।।
सपना यह संसार रैन का देखना।
अरे हां, पलटू बाजीगर का खेल बना सब पेखना।।

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--24)

ओशो के कार्य करने के निराले ढंग(अध्‍यायचौबीसवां)

अध्यात्म की यात्रा, ध्यान की राह, भक्ति की डगर.. .इतनी आसान भी नहीं होती है। जहां संसार में बहुसंख्य एक दिशा में सदियों से चला जा रहा है, वहां अचानक कोई एक विपरीत दिशा में चल पड़े तो कदम—कदम पर कठिनाइयां तो अवश्य ही आती हैं। और ये कठिनाइयां और भी अधिक दुरूह हो जाती हैं जब हम बुद्ध के साथ चल रहे होते हैं। हमारी नींद को तोड्ने के लिए, हमारी बेहोशी को समाप्त करने के लिए, जागृत व्यक्ति हमें बार—बार झकझोरता है, हमारी तंद्रा को तोड्ने की कोशिश करता है। हमारा सोया मन इन क्षणों में इतना भी सतर्क नहीं रह पाता कि हर चोट को तत्काल समझ पाए, नींद से जगाने के प्रयास को प्रेम पूर्वक देख पाए।

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--23)

ओशो का बोलना(अध्‍यायतैइसवां)

शो एक बार आकर अपनी कुर्सी पर विराजमान होते तो बिना रुके बिना किसी तरह के विश्राम या ब्रेक के लगातार बोलते जाते। लगभग चालीस सालों तक यह सिलसिला अनवरत चलता रहा। इस सूरज तले शायद ही कोई ऐसा विषय होगा जिस पर ओशो ने अपनी बात न कही हो। दुनिया भर से श्रेष्ठतम प्रतिभावान, कलाकार, प्रोफेसर्स, दार्शनिक, मनोवैज्ञानिक, डॉक्टर्स, इंजीनीयर्स, साहित्यकार, कलाकार ओशो के पास आए और जीवन के हर आयाम से संबंधित प्रश्न पूछे और ओशो हर प्रश्न, हर विषय पर इस तरह बोलते कि सुनने वाले बस सुनते ही रह जाते। विभिन्न विषयों को, जीवन को इस तरह से भी देखा जा सकता है यह सुन कर ही अचंभित हो जाते।

सोमवार, 23 नवंबर 2015

सपना यह संसार--(प्रवचन--14)


धर्म की भाषा है: वर्तमान—(प्रवचन—चौदहवां)
दिनांक; मंगलवार, २४ जुलाई १९७९;
श्री रजनीश आश्रम, पूना
प्रश्‍नसार:
1—भगवान, पारस के स्पर्श से लोहा सोना हो जाता है। लोहा पारस हो जाए, क्या यह संभव है?
2—भगवान, नाम—जप करते—करते उम्र ढल गई। हाथ तो कभी कुछ लगा नहीं। लेकिन जब भी तथाकथित पंडित—पुजारियों, साधु—महात्माओं से पूछा, तो उन्होंने कहा—बेटा, यह कार्य जन्मों की साधना से होता है। और जीवन के अंतिम पहर में अब आप मिले तो लगता है: मैं भी किन धोखेबाजों के चक्कर में पड़ा रहा! अब मैं क्या करूं?
3—भगवान,
ये युगल बावरे नैन
और तू दूर देश का वासी
चिर से तव दर्शन की उत्कट अभिलाषा है
तेरे इस मधुर मिलन की इनको आशा है
दर्शन से पहले भी ये कुछ—कुछ गीले हैं
बात मिलन की करें, सजन उन्मीले हैं

तंत्र--सूत्र--(भाग--4) प्रवचन--59

स्‍वयं को असीमत: अनुभव करो—(प्रवचन—उन्‍नसठवां)

सूत्र:
86—भाव करो कि मैं किसी ऐसी चीज की चिंतना करता हूं,
जो दृष्‍टि के परे है, जो पकड़ के परे है, जो अनास्तिव के,
न होने के परे है—मैं।
      87—मैं हूं, यह मेरा है। यह यह है। हे प्रिय,ऐसे भाव में ही असीमत: उतरो।

रविवार, 22 नवंबर 2015

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--22)

अपराध बोध के पार(अध्‍यायबाईसवां)

ब शुरू में कोरेगांव पार्क, पुणे में आश्रम स्थापना हुई तो ओशो लाओत्सु भवन के खुले प्रागणन में प्रवचन देते थे। कुछ समय पश्चात वहां पर छत बनवाई गई। ओशो ने ही डिजाईन बनाया। जब छत का कार्य चल रहा था, ईंट, कंक्रीट, सीमेंट से बनी छत को लकड़ियों के सहारों से टिकाया हुआ था। उस समय छत का निर्माण इसी तरह से होता था। तो टनों बोझा छत के खंभों पर टिका था। एक दिन पता नहीं क्या चूक रह गई कि सारी की सारी छत धड़ाम से नीचे गिर गई। पूरा छत नीच बैठ गया। सारा मलवा बड़ी धमाके की आवाज के साथ नीचे आ गिरा। मैं और लक्ष्मी ने जाकर मंजर देखा तो दंग रह गये, पूरी छत नीचे गिरी पड़ी थी।

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--21)

ओशो के कार्य को समर्पित होना—(अध्‍याय—इक्‍कीसवां)

शो के साथ रहते, उनको सुनते, ध्यान करते, धीरे— धीरे दिखाई देने लगा था कि अब मेरे लिए व्यवसाय की दुनिया में बने रहना मुश्किल होता जा रहा है। जोड़—तोड़, मारा—मारी, भागम— भाग, महत्वाकांक्षा, जितना है उतना पर्याप्त नहीं है, दौड़ते रहो, प्रतियोगिता, इसके पहले कि कोई दूसरा आगे निकल जाए या हमसे अधिक कमा ले हमें सबसे आगे निकलना है...। इस अंधी दौड़ को ओशो संदेश के उजाले में जीवन में जारी रखना मुश्किल होता जा रहा था। यह स्पष्ट ही दिखाई देने लगा कि जीवन में अर्थ की जरूरत होती है लेकिन इतनी भी नहीं कि सारा जीवन ही उसके लिए दांव पर लगा दिया जाए। अर्थ तो माध्यम मात्र है, अर्थ लक्ष्य तो हो ही नहीं सकता।

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--20)

भ्रमित होना—(अध्‍याय—बीसवां)

ब ओशो जैसे बुद्ध के संपर्क में आते हैं। जब ध्यान के द्वारा अपने ही अंधेरे अचेतन में प्रवेश होता है तो जीवन में हर तल पर बदलाव आता है। हमारी समझ, हमारी सोच, हमारे जीने का ढंग, लोगों से संबंधित होने के तरीके.....हर चीज में बदलाव आता है। इसी के साथ यह भी होता है कि कई बार हम अपने में हो रहे बदलावों को खुद ही नहीं समझ पाते हैं। जिस तरह से हम सोचते रहें हैं, विचारते रहें हैं, वह जब बदलता है, तो स्वाभाविक ही प्रश्न उठने लगता है कि कुछ गलत तो नहीं हो रहा।

शुक्रवार, 20 नवंबर 2015

सपना यह संसार--(प्रवचन--13)


राग का अंतिम चरण है वैराग्य—(प्रवचन—तेरहवां)

दिनांक; सोमवार, 23 जुलाई 1978;
श्री रजनीश आश्रम, पूना
सूत्र:
जीवन है दिन चार, भजन करि लीजिए।
तन मन धन सब वारि संत पर दीजिए।।
संतहिं से सब होइ, जो चाहै सो करैं
अरे हां, पलटू संग लगे भगवान, संत से वे डरैं।।

ऋद्धि सिद्धि से बैर, संत दुरियावते
इंद्रासन बैकुठ बिष्ठा सम जानते।।
करते अबिरल भक्ति, प्यास हरिनाम की।
अरे हां, पलटू संत न चाहैं मुक्ति तुच्छ केहि काम की।।

गुरुवार, 19 नवंबर 2015

स्‍वर्णिम क्षणों की सूमधुर यादें--(अध्‍याय--19)

ओशो के मुखारबिंद से मेरी कविता(अध्‍यायउन्‍नीसवां)

द्गुरु के प्रेम में होना, ध्यान और भक्ति का आनंद लेते श्रद्धा के शिखर का अनुभव करना, अपने आपमें अनूठा अनुभव होता है। एक बार ओशो के कारवां में शामिल हो जाने के बाद, कभी और कुछ याद नहीं रहा। उन दिनों की बात है, जब ओशो हमारे अपने गृह नगर पुणे में विराजमान थे। रोज सुबह ओशो के अमृत प्रवचन दिन भर आश्रम में कार्य— ध्यान करना। कब सुबह होती, कब शाम होती और कब रात हो जाती कुछ पता ही नहीं चलता। ओशो के प्रेम में डूबे संन्यासियों के साथ कैसे समय गुजर रहा था पता ही नहीं चलता था।

स्‍वर्णिम क्षणों की सूमधुर यादें--(अध्‍याय--18)

मेरे और गुरूदयाल सि पर चुटकुला(अध्‍यायअट्टारहवां)

क दफा ओशो ने एक चुटकुला सुनाया, स्वामी स्वभाव, स्वामी गुरुदयाल सिंह जंगल में भटक गए। सात दिन के भूखे प्यासे थे। जंगल में एक रेस्टोरेंट मिला, जहां नग्न स्त्रियां खाना परोसती थीं। जब स्वामी स्वभाव से पूछा कि ' आप क्या लेंगे?' तो उन्होंने कहा, 'मिल्क शेकतो उस स्त्री ने अपने स्तन से दूध निकाल कर दे दिया। इस पर स्वामी गुरुदयाल जोर—जोर से हंसने लगे। वाहे गुरु जी का खालसा, वाहे गुरु जी की फतह। और बोले, 'मैं तो काफी बनाने के लिए गरम पानी मांगने वाला था।बाद में आश्रम में हर कोई हम से पूछे कि 'भाई यह रेस्टोरेंट कहां है?' तब मैंने कहा, 'भाई ऐसा कोई रेस्टोरेंट नहीं है। यह तो ओशो की माया है।

स्‍वर्णिम क्षणों की सूमधुर यादें--(अध्‍याय--17)

सरदार गुरूदयाल सिंह एक अनूठा व्‍यक्‍ति(अध्‍यायसत्‍तरहवां)

      म सभी के बीच सरदार गुरुदयाल सिंह बहुत प्रसिद्ध हैं। वे अपने आपमें अनूठे सज्जन थे। उनकी जितनी तारीफ की जाए कम है। ओशो ने अपने प्रवचनों में सरदार गुरुदयाल सिंह के बारे में बहुत कुछ बोला है। उनकी हंसी के ठहाके जग प्रसिद्ध हैं। वे मेरे बहुत ही अजीज मित्र थे। शुरू में मुलाकात हुई और हमारे बीच कोई बात बन गई। उनमें एक भोलापन था, जिसका आनंद उनके साथ रहने में आता था। यह घटना उन दिनों की है जब ओशो माउंट आबू में ध्यान शिविर लिया करते थे।

तंत्र-सूत्र--(भाग-4) प्रवचन--58

अपनी नियति अपने हाथ में लो—(प्रवचन—अट्ठावनवां)

प्रश्‍नसार:
1—क्‍या त्‍वरित विधियां स्‍वभाव के, ताओ के विपरीत नहीं है?
2—हम अब तक बुद्धत्‍व को प्राप्‍त क्‍यों नहीं हुए?
3—यदि समग्र बोध और समग्र स्‍वतंत्रता को उपलब्‍ध होकर प्राकृतिक
      विकास के करोड़ो जन्‍मों का टाला जा सकता है, तो क्‍या यह
      तर्क नहीं किया जा सकता है क ऐसा हस्‍तक्षेप नहीं करना चाहिए?
4—क्‍या अकर्म और विस्‍तृत बोध पर्यायवाची है?

मंगलवार, 17 नवंबर 2015

सपना यह संसार--(प्रवचन--12)


होश और बेहोशी के पार है समाधि—(प्रवचन—बारहवां)
दिनांक, रविवार, 22 जुलाई 1979;
श्री रजनीश आश्रम, पूना
प्रश्‍नसार:
1—भगवान, मुझे हिंदी तो बहुत आती नहीं, और कभी कुछ लिखा भी नहीं है, लेकिन जब से आप आए हैं जिंदगी में, आप साथ कविता भी ले आए हैं। कल आपने कहा कि होश से रहना, चूक मत जाना। तो आप ही बताएं, अब क्या होगा! जब इतनी पिला दी, तो होश में आने को कहते हो!

बैठे हैं राहगुजर पे तेरी, सांस थाम के
मदहोश गिर गए हम तेरे जाम से
लड़खड़ाऊं उठ न सकूंगा, जो उठूं कभी
पहुंचेंगे जाने कैसे हबी तेरे धाम पे
रातो सहर की होश नहीं आए जाए कब
कुर्बान हुए जब हम तेरे नाम पे।
जब से खुला मैखाना तेरे इश्क का हसीं
पीने चले दीवाने सभी, जिगर को थाम के।

सोमवार, 16 नवंबर 2015

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--16)

प्रवचन खोखला लगा(अध्‍यायसोहलवां)

शो से पूरी दुनिया से लाखों—लाखों मित्रों ने तरह—तरह के प्रश्न पूछे हैं। शायद ही ऐसा कोई विषय छूटा हो जिस पर ओशो से प्रश्न न पूछा गया हो। और हर तरह के प्रश्न का जवाब ऐसा होता कि सुनते ही रह जाओ। एक बार किसी ने तो यह तक पूछ लिया कि ' मैं आपको सुनते—सुनते बोर हो गया हूं।जरा सोचो कोई अपने सद्गुरु से इस तरह का प्रश्न पूछ सकता है? क्या किसी दूसरी सभा में यह संभव है? लेकिन ओशो के साथ सब कुछ संभव है।

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--15)

ओशो ने हमें निर्भीक बनाया(अध्‍यायपंद्रहवां)

शो ने हमें बहुत निर्भीक बनाया है। हमें कभी किसी बात से भयभीत नहीं किया, डराया नहीं। हमें अपने को अभिव्यक्त करने को, अपनी बात कहने को, उनसे किसी भी प्रकार का प्रश्न पूछने को, हमेशा ही उन्होंने प्रोत्साहित किया। किसी को भी कुछ भी पूछते जरा भी डरने की जरूरत नहीं थी। ओशो हमेशा प्रयास करते रहे कि हम अपनी बात को दिल खोल कर उनके सामने रख दें।

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--14)

ओशो के काम करने का अनोखा तरीका(अध्‍यायचौदहवां)

शो कब क्या करेंगे, क्या कहेंगे, आने वाले पल में क्या हो सकता है यह किसी को कुछ पता नहीं चलता है। हर पल एक अशात की तरफ चलती यात्रा। एक दिन अचानक लक्ष्मी ने मुझे फोन किया और बोला, 'ओशो ने प्रवचन देने से मना कर दिया है और जो पुस्तकें वे पढ़ते थे, उन्हें भी कमरे से निकलवा दिया, कहते हैं कि न तो मुझे अब प्रवचन देना है और न ही पुस्तकें पढ़नी हैं। मैं सारे काम छोड़ कर उसी समय भागा— भागा ओशो के पास पहुंचा। ओशो को प्रेम से निवेदन किया कि 'अभी तो हमारे दिन खेलने के हैं, आपने हमारे खिलौने ही छीन लिए?'

स्‍वर्णिम क्षणों की सुमधुर यादें--(अध्‍याय--13)

ओशो का पूणे में आगमन(अध्‍यायतैरहवां)

शो के सत्संग और ध्यान साधनाओं से गुजरते मैं स्पष्ट ही देख पा रहा था कि मैं भीतर से बदल रहा हूं। हर समय भीतर ही भीतर एक मस्ती सी बनी रहने लगी जो मैंने पहले कभी महसूस नहीं की थी। 1973 में ओशो ने माउंट आबू में आखरी ध्यान शिविर लिया। जिसमें ओशो कठोपनिषद पर बोले। उसके बाद एक दिन मा योग लक्ष्मी का मुझे फोन आता है कि ' ओशो बांबे छोड़ना चाहते हैं। तो आप पुणे में कोई अच्छी जगह मिले तो देखें।

सपना यह संसार---(प्रवचन--11)


झुकने से यात्रा का प्रारंभ है—(प्रवचन—ग्‍यारहवां)
दिनांक; शनिवार, 21 जुलाई 1979;
श्री रजनीश आश्रम, पूना
सूत्र:
भेख भगवंत के चरन को ध्याइकै,
ज्ञान की बात से नाहिं टरना
मिलै लुटाइए तुरत कछु खाइए,
माया औ मोह की ठौर मरना।।
दुक्खसुक्ख फिरि दुष्ट औ मित्र को,
एकसम दृष्टि इकभाव भरना।
दास पलटू कहै राम कहू बालकेख
राम कहु राम कहु सहज तरना।।

देखि निंदक कहैं करौं परनाम मैं,
धन्य महराज, तुम भक्त धोया।
किहा निस्तार तुम आइ संसार में,
भक्त कै मैल बिन दाम खोया।।
भयो परसिद्ध परताप से आपके,
सकल संसार तुम सुजस बोया।
दास पलटू कहै, निंदक के मुये से,
भया अकाज मैं बहुत रोया।।