कुल पेज दृश्य

बुधवार, 28 जुलाई 2010

अधूरी वासना—(कहानी) लेखक--ओशो

  
(28 नवंबर 1953 के नव भारत (जबलपुर) में इस संपादकीय टिप्‍पणी के साथ यह कहानी पहली बार प्रकाशित हुई थी)
     ‘’ अधूरी वासना ’’ लेखक की रोमांटिक कहानी है।
     भारत के तत्‍व दर्शन में पुनर्जन्‍म का आधार इस जीवन की अधूरी छूटी वासनायें ही है। कहानी के लेखक नह ऐ अन्‍य जगह लिखा है कि ‘’ शरीर में वासनायें है पर वह शरीर के कारण नहीं है, वरन शरीर ही इन वासनाओं के कारण से है।
     अधूरी वासनायें जीवन के उस पास भी जाती है। और नया शरीर धारण करती है। जन्‍मों–पुनर्जन्‍मों का चक्र इन अधूरी छूटी वासना ओर का ही खेल है, लेखक की इस कहानी का विषय केंन्‍द्र यही है।
     23 अगस्‍त 1984 को पुन: नव भारत ने इस के साथ इस कहानी को प्रकाशित किया: संपादकीय टिप्‍पणी:-
     श्री रजनीश कुमार से आचार्य रजनीश और भगवान रजनीश तक का फासला तय करने वाले आचार्य रजनीश का जबलपुर से गहरा संबंध रहा है। अपनी चिंतन धारा और मान्‍यताओं के कारण भारत ही नहीं समूचे विश्‍व में चर्चित श्री रजनीश ने आज से लगभग 31 वर्ष पूर्व नव भारतको एक रोमांटिक कहानी प्रकाशनार्थ भेजी थी और वह जिस संपादकीय टिप्‍पणी के साथ प्रकाशित की गई थी, 28 नवंबर 1953 के नव भारत से लेकिर अक्षरशः: प्रकाशित कर रहे है।
    
      मैं पथ पर अकेला था, मेरा गीत था और दूर-दूर तक पहाड़ी पगडंडियों में चांदनी बिखरी सोई था। रातें ठंडी हो गई थी। और ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों पर बर्फ गिरने लगी थी एक माह की दे थी कि यहां भी बर्फ के गोले पड़ने लगेंगे, नदिया जमकर चाँदी की धारों में बदल जायेगी और काले पहाड़ों की चोटियों पर शुभ्र हिम ऐसे चमकने लगेगा, जैसे पहाड़ों ने अपने जूड़ों पर जुही के सफेद फूल बाँध लिये हो।
      मैं अपने आप में खोया-खोया आगे बढ़ता गया। कभी-कभी पक्षी रात में मौन को तोड़ता निकल जाता और सूनी वादियाँ उसके परों की फड़फड़ाहट में गूंज जाती। फिर रात का ठंडा मौन वैसे ही वापस घिर आता जैसे नदी की छाती पर गिरे पत्‍थर से कांपती लहरें फिर एक दूसरे में मिलकर मौन जो जाती।

गुरुवार, 22 जुलाई 2010

विनोद खन्‍ना--2 (एक पहचान परदों के पार)

 
यह तो आपके अहंकार पर सब तरफ से सीधी चोट थी। उससे आपके अंदर क्रोध नहीं उठता होगा?
      मुझे बहुत मजा आ रहा था, विनोद ने उस स्‍थिति का जायका लेते हुए कहा। मैं इतना मस्‍ती में था कि मुझे ओशो के पास रहने का मौका मिल रहा है। मेरे मन की सारी उथल पुथल शांत हो गई थी। शायद इस फकीरी की ही मुझे तलाश थी। मैं खूब काम करता था ओर खूब ध्‍यान करता था। समाधि टैंक मुझे बहुत अच्‍छा लगता था। उसमें मां के गर्भ जैसी स्‍थिति बनाई जाती है। वहां पर मुझे अपने जन्‍म का अनुभव भी हुआ।

बुधवार, 21 जुलाई 2010

विनोद खन्‍ना--एक पहचान परदों के पार

मेरा आध्‍यात्‍मिक जीवन तब शुरू हुआ जब मैं उस मुकाम पर पहुंच गया था, जहां पर बहार की कोई चीज में मायना नहीं रखती थी। सब कुछ था मेरे पास: पैसा था, अच्‍छा परिवार था, शोहरत थी, इज्जत.....जो भी इच्‍छाएं थीं सब पूरी हो चुकी थी। उस वक्‍त मैंने यह सोचना शुरू कर दिया कि यह जो चेतना है( कांशसनेस) जिसकी सभी गुरु चर्चा करते है। वह क्‍या है। तो मैं पुस्‍तकों की दुकानों में खोजा करता था। किसी पुस्‍तक में मुझे क्‍या मिलेगा....
      यह किस उम्र में आपकी खोज शुरू हुई?
            वैसे तो में आठ साल का था तभी से में साधुओं के पास जाया करता था। किसी को हाथ दिखा था , किसी के पास आंखें बंद करके, ध्‍यान में बैठ जाता था। फिर मेरी पढ़ाई शुरू हुई, कॉलेज गया तो मेरा यह हिस्‍सा पीछे की और चला गया। मेरे अंदर ख्‍वाहिश जाग उठी के मैं अभिनेता बनूं। उस दिशा में मेरे कदम चल पड़े। वह कहानी ताक सबको पता है। फिर जब मेरा कैरियर कामयाब हो गया तो बचपन की वो चीजें फिर वापस आई। मैं एक दुकान में गया और मैंने परमहंस योगानंद की वह मशहूर किताब खरीद ली: आटो बाई ग्राफी आफ एक योगी—एक ही रात में उसे पुरी पुस्‍तक को पढ़ गया। योगानंद जी की फोटो देख कर मुझे लगा मैं इस आदमी को जानता हूं।
      फिर मेरी ध्‍यान की खोज शुरू हुई। डेढ़ दो साल तक मैंने टी. एम. किया। लेकिन उसमें एक जगह जाकर लगा, अब दिवाल आ गई। थोड़ी बहुत शांति आ जाती है लेकिन उसके बाद कुछ नहीं है। उस बीस मिनट के दौरान थोड़े रंग दिखाई देते थे। दृश्‍य तैरते थे लेकिन आगे क्‍याइसे समझाने वाला कोई नहीं था। उन दिनों हमारे क्षेत्र के विजय आनंद ओशो से संन्‍यास ले चुके थे। महेश भट्ट भी ओशो को सुनते बहुत थे। ये दोनों मेरे अच्‍छे दोस्‍त थे। उनके साथ में पूना आया और ओशो की कुछ कैसेट खरीदे। आश्‍चर्य की बात, उन प्रवचनों में मुझे उन सारे प्रश्‍नों के उत्‍तर मिल गए जो मेरे मन में चलते थे।

रविवार, 18 जुलाई 2010

फकीर संत हरिदास—

   अकबर ने एक दिन तानसेन को कहा, तुम्‍हारे संगीत को सुनता हूं, तो मन में ऐसा ख्‍याल उठता है कि तुम जैसा गाने वाला शायद ही इस पृथ्‍वी पर कभी हुआ हो और न हो सकेगा। क्‍योंकि इससे ऊंचाई और क्‍या हो सकेगी। इसकी धारणा भी नहीं बनती। तुम शिखर हो। लेकिन कल रात जब तुम्‍हें विदा किया था, और सोने लगा तब अचानक ख्‍याल आया। हो सकता है, तुमने भी किसी से सीखा है,ुम्‍हारा भी कोई गुरू होगा। तो मैं आज तुमसे पूछता हूं। कि तुम्‍हारा कोई गुरू है? तुमने किसी से सीखा है?

शुक्रवार, 16 जुलाई 2010

सरहा की गुरु एक तीरंदाज स्‍त्री

 
सरहा महाराष्‍ट्र के विदर्भ प्रांत में पैदा हुआ। सम्राट महा पाल के दरबार में एक विद्वान ब्राह्मण था। सरहा उस ब्राह्मण का पुत्र था। सम्राट अपनी पुत्री का विवाह सरहा के साथ करने को तैयार था। लेकिन सरहा संन्‍यास लेना चाहता था। वह श्री विमल कीर्ति नामक बौद्ध भिक्षु का शिष्‍य बना।  
      श्री विमल कीर्ति ने सबसे पहली बात जो सरहा से कही वह थी:  सारा पांडित्‍य छोड़ दो। वेदों को भूल जाओ।

गुरुवार, 15 जुलाई 2010

युवक वणिक की सात दिन बाद मृत्‍यु—(कथा यात्रा)

 
गवान श्रावस्‍ती नगरी में ठहरे थे। वही जैत बन के पास ही एक नवयुवक वणिक अपनी पाँच से बेल गाड़ियों सहित ठहरा था। जिसमें उसने बहुमूल्य, हीरे जवाहारात, मेवे, वस्‍त्र, आभूषण, और नाना प्रसाधान की वस्तुएँ भरी थी। जिनका वह व्यापार करता था। भगवान सुबह ध्‍यान के बाद ताप्‍ती(अचरवती) के किनारे एक वृक्ष की छाव में बैठे थे। पास ही आनंद टहल रहा था। युवक वणिक का व्यापार इस समय बहुत जोर शोर से चल रहा था। पर भगवान उसके इतने पास थे पर वह धड़ी भर का भी टाईम निकाल कर उन्‍हें सुनने नहीं आया।  वह अपने व्‍यापार की वृद्धि को देख अति प्रसन्‍न हो रहा था।

बुधवार, 14 जुलाई 2010

परम संत--सहजो बाई—

 
अब तक मैं मुक्‍त पुरूषों पर ही बोला हूं। पहली बार एक मुक्‍त नारी पर चर्चा शुरू करता हूं। मुक्‍त पुरूषों पर बोलना आसान था। उन्‍हें में समझ सकता हूं-वे सजातीय है। मुक्‍त नारी पर बोलना थोड़ा कठिन है। वह थोड़ा अंजान, अजनबी रस्‍ता है। ऐसे तो पुरूष ओर नारी अंतरतम में एक ही है। लेकिन उनकी अभिव्यक्ति बड़ी भिन्‍न-भिन्‍न है। उनके होने का ढंग उनके दिखाई पड़ने की व्‍यवस्‍था उनका व्‍यक्‍तित्‍व उनके सोचने की प्रक्रिया, न केवल भिन्‍न है बल्‍कि विपरीत भी है।

मंगलवार, 13 जुलाई 2010

विशाखा--का अपने श्‍वसुर की गुरू माता बनना--(कथा यात्रा)

विशाखा एक अति धनी परिवार में पैदा हुई थी। उस का पुरा परिवार भगवान बुद्ध से प्रभावित था। उसके पिता धनंजय और माता का नाम सुमना था। उसके पिता भगवान बुद्ध के अटूट भक्तों में से एक थे। वह बचपन से ही अपने माता पिता के साथ धर्म श्रवण को जाती थी। कहते है वह सात साल की थी,तब ही श्रोतापत्ती के फल को उपलब्‍ध हो गई थी। श्रोतापत्‍ती का अर्थ है ध्‍यान की धारा में बह जाना। अपने को छोड़ देना उस आस्तित्व के हाथों। और अपने में डूब जाना। मनुष्‍य जब ही अध्‍यात्‍म की यात्रा पर चल सकता है जब वह श्रोता पन्न को उपल्‍बध हो जाये। ये मनुष्‍य के जीवन के अति महत्‍व पूर्ण पड़ाव है। मनुष्‍य के शरीर को सात चक्रों में विभाजित किया जाये तो यह तीसर मणिपूर चक्र होता है। पहल दो चक्रों तक प्रकृति अपना काम करती है। उत्पत्ति और भय और क्रोध। जो जीवन के अभिन्‍न अंग हे। मणि पुर जिसे हिन्‍दुओं ने उसे सचमुच बहुत ही सुंदर नाम दिया है। वह सच में मणि है। जो मनुष्‍य के अंदर का भाग्‍य खोल देती हे। वह बंध होता है। बिना गुरु के सहयोग के वह कभी नहीं खुलता। पर जिस का खुल गया वह समाज की नजरों में आपको पागल सा लगेंगे। आप कहोगे ये तो उसका दीवाना हो गया। बावरा हो गया।

सोमवार, 12 जुलाई 2010

आर्य रेवत—(ऐतिहासिक कहानी)

 
रेवत स्‍थविर सारि पुत्र को छोटा भाई था। राजगृह के पास एक छोटे से गांव का रहने वाला था। सारि पुत्र और मौद्गल्यायन स्‍थविर बचपन से ही संग साथ खेल और बड़े हुए। दोनों ने ही राजनीति ओर धर्म में  तक्ष शिला विश्‍वविद्यालय से शिक्षा प्राप्‍त की । और एक दिन घर परिवार छोड़ कर दोनों ही बुद्ध के अनुयाई हो गये। उस समय घर में बूढ़े माता-पिता, पत्‍नी दो बच्‍चे, दो बहने और छोटा रेवत था। इस बात की परिवार को दु:ख के साथ कही गर्व भी था की उनके सपूत ने बुद्ध को गुरु माना। पर परिवार की हालत बहुत बदतर होती चली गई। कई-कई बार तो खानें तक लाले पड़ जाते। जो परिवार गांव में कभी अमीरों में गिना जाता था। खुशहाल था। अब शरीर के साथ-साथ मकान भी जरजर हो गया था।

शुक्रवार, 9 जुलाई 2010

धनंजाति ब्राह्मणी---नमा तस्‍य.....(कथा यात्रा)

 
बात राज गृह की है। वहां एक धनंजाति नाम की ब्रह्मणी रहती थी। मायके से उसका परिवार भगवान बुद्ध का अनुयायी था। पर विवाह के वाद जिस परिवार में औरत जाती है। वहीं उसका धर्म हो जाता है। इस लिए तो हमारे पंडित पुरोहित भी पत्‍नी के आगे एक शब्‍द लगा देते है, धर्म पत्‍नी। वह जब दीक्षित हुई तब ही वह श्रोतापति को उपलब्‍ध हो गई। श्रोतापति को अर्थ है कि वह कुछ गया नदी की धारा में   अब उसने अपने को छोड़ दिया आस्‍तित्‍व के बहाव में। वह उसी दिन से ही एक पाठ दोहराती थी। सदा नमो तस्‍य भगवतो अरहंतो सम्‍मासंबुद्धस्‍य दोहराती रहती थी।

सोमवार, 5 जुलाई 2010

रोहिणी का छवि रोग--कथा यात्रा

 
एक बार भगवान कपिलवस्‍तु गए। उनके एक शिष्‍य थे अनिरुद्ध, जिनकी बहन थी रोहणी। वह बहुत सुंदर थी पर बहुत अहंकारी भी थी। अहंकार स्‍त्री को होता है रूप का। दो ही अहंकार होते है एक नाम और एक रूप। नाम यानि सूक्ष्‍म मन जिसके पीछे चले आते है। पद, प्रतिष्‍ठा, यश, धन, त्‍याग…….
      और नारी को रूप का, कुरूप से कुरूप स्‍त्री को भी आप जब सुंदर कहोगे तो वह मान जायेगी की वह सच में ही सुन्‍दर है। तो रोहणी सुन्‍दर थी, रूप का दंभ था उसे रूप के दंभ के कारण मनुष्‍य को बहुत चोट पहुँचती है। अगर उसे कोई सुन्‍दर नहीं कहे या उस के सामने आप किसी दूसरे के रूप गुणों की तारीफ करों तो उसके अहं को बहुत ठेस लगती है। अगर हमें क्रोध आता है तो इसका एक सीधा सा लक्षण है की हमारे अंदर अहंकार है। जहां अहंकार होगा वहां प्रेम नहीं हो सकता।